Tax became history with GST: भारत में GST लागू होने के बाद वस्तुओं एवं सेवाओं पर केवल तीन तरह के टैक्स वसूले जाएंगे। पहला सीजीएसटी, यानी सेंट्रल जीएसटी, जो केंद्र सरकार वसूलेगी। दूसरा एसजीएसटी, यानी स्टेट जीएसटी, जो राज्य सरकार अपने यहां होने वाले कारोबार पर वसूलेगी। तीसरा होगा वह जो कोई कारोबार अगर दो राज्यों के बीच होगा तो उस पर आईजीएसटी, यानी इंटीग्रेटेड जीएसटी वसूला जाएगा।

जुलाई के बाद कुछ ये टैक्स खत्म हो जायेंगें

1. GST लागू होते ही सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी (केंद्रीय उत्पाद शुल्क)

2. सेंट्रल एक्साइज ड्यूटी (केंद्रीय उत्पाद शुल्क)

3. एक्साइज ड्यूटी (medicinal and toilet preparation)

4. एडिशनल ड्यूटीज ऑफ एक्साइज (टैक्सटाइल और टैक्सटाइल प्रोडक्ट्स पर)

5. एडिशनल कस्टम ड्यूटी (सीवीडी)

6. स्पेशल एडिशन ड्यूटी ऑफ कस्टम (एसएडी)

7. सर्विस टैक्स (सेवा कर)

8. वस्तु एवं सेवाओं की आपूर्ति से संबंधित सेस और सरचार्ज

9. स्टेट वैट

10. सेंट्रल सेल्स टैक्स

GST in India11. पर्चेज टैक्स

12. लग्जरी टैक्स

13. एंट्री टैक्स (ऑल फॉर्म)

14. एंटरटेनमेंट टैक्स (स्थानीय निकायों की ओर से नहीं लगाए गए)

15. विज्ञापन पर टैक्स

16. लॉटरी, सट्टेबाजी और जुए पर कर

17. स्टेट सेस और सरचार्ज

Modi Becomes the Most Followed World Leader on Facebook

LEAVE A FB COMMENT